UP Board : यूपी बोर्ड का पाठ्यक्रम घटेगा, साथ ही अगली कक्षा में प्रवेश को ऑनलाइन आवेदन कार्यक्रम

प्रयागराज : सीबीएसई की तर्ज पर यूपी बोर्ड से संबद्ध कालेजों में पाठ्यक्रम घटने जा रहा है। इसका असर प्रदेशभर के 27,373 कालेजों की पढ़ाई पर पड़ेगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने कक्षा नौ से 12वीं तक का पाठ्यक्रम 30 प्रतिशत कम किया है। यूपी बोर्ड जून माह में ही पाठ्यक्रम कम करने का प्रस्ताव भेजा चुका है, संकेत है कि शासन करीब 30 प्रतिशत पाठ्यक्रम घटने का एलान कभी भी कर सकता है। गौरतलब है कि दैनिक जागरण ने 30 जून को ‘यूपी बोर्ड से संबद्ध कालेजों में घटेगा पाठ्यक्रम!’ खबर प्रकाशित की थी।
Uptet help , primary ka master, primary ka master current news, primarykamaster, basic siksha news, basic shiksha news, upbasiceduparishad, uptet
कोरोना संक्रमण के कारण अब तक स्कूल-कालेज नहीं खुलने से पढ़ाई बाधित है। जबकि शैक्षिक सत्र पहली अप्रैल से ही शुरू हो चुका है। हालांकि छात्र-छात्रओं की पढ़ाई प्रभावित न हो इसके लिए ऑनलाइन माध्यम को अपनाया गया है। लेकिन, फिर भी उस गति से पढ़ाई नहीं हो सकी है। इसीलिए पाठ्यक्रम को कम करने की कवायद है।

यूपी बोर्ड में कई विषयों में सीबीएसई का ही पाठ्यक्रम लागू हो चुका है। बोर्ड ने शासन के निर्देश पर जून में ही शिक्षा निदेशक माध्यमिक विनय कुमार पांडेय की देखरेख में पाठ्यक्रम घटाने के लिए बैठकें की थीं। पाठ्यचर्या समिति (पाठ्यक्रम बनाने वाले) के सदस्यों व विशेषज्ञों से चर्चा करने के बाद पाठ्यक्रम कम करने का प्रस्ताव भेजा जा चुका है। हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के अहम विषयों में पाठ्यक्रम कम करने पर सहमति बनी थी। इसके अलावा कक्षा नौ व ग्यारह का सिलेबस घटाने का प्रस्ताव है, जिसका करीब 20 व 30 फीसद कम करने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। अब कभी भी शासन यूपी बोर्ड का पाठ्यक्रम सीबीएसई की तर्ज पर 30 प्रतिशत कम कर सकता है।

उधर, यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल का कहना है कि पाठ्यक्रम घटाने पर शासन ही अंतिम निर्णय करेगा, जो आदेश होगा उसका अनुपालन कराया जाएगा।

राज्य ब्यूरो, प्रयागराज : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 की तैयारियां शुरू हो गई हैं। 27 हजार से अधिक मान्यता प्राप्त माध्यमिक कालेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्रएं परीक्षा में शामिल होंगे, उनका ऑनलाइन आवेदन का कार्यक्रम जारी हो गया है। संस्थागत व व्यक्तिगत छात्र-छात्रओं से प्रधानाचार्यो के परीक्षा शुल्क लेने की अंतिम तारीख पांच अगस्त तय की गई है।

यूपी बोर्ड के प्रभारी सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा परिषद के कालेजों में 10वीं व 12वीं में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्रओं का ऑनलाइन आवेदन शुरू हो रहा है। प्रधानाचार्य सभी संस्थागत व व्यक्तिगत छात्र-छात्रओं से पांच अगस्त तक परीक्षा शुल्क ले सकेंगे, जबकि उन्हें एकमुश्त कोषागार में जमा करने की अंतिम तारीख 10 अगस्त रखी गई है।

परीक्षा शुल्क पिछले साल ही बढ़ा : यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल व इंटर का परीक्षा शुल्क पिछले साल ही बढ़ाया है, बढ़े शुल्क की सूची भी वेबसाइट पर है। उसी के अनुसार प्रधानाचार्यो को शुल्क लेना है। बोर्ड ने अभी कक्षा नौ व ग्यारह में पंजीकरण का कार्यक्रम जारी नहीं किया है।

प्रदेश के 27,373 कालेजों के पठन-पाठन पर पड़ेगा असर, यूपी बोर्ड भी करीब 30 फीसद घटाएगा, शासन के अंतिम निर्णय का इंतजार

 10वीं व 12वीं में प्रवेश लेने हेतु ऑनलाइन आवेदन कार्यक्रम

’ प्रधानाचार्य के कक्षा 10वीं व 12वीं में प्रवेश लेने व परीक्षा शुल्क लेने की अंतिम तारीख - पांच अगस्त

’ प्रधानाचार्य की ओर से परीक्षा शुल्क को कोषागार में जमा कराने की अंतिम तारीख - 10 अगस्त

’ कोषागार में जमा शुल्क की सूचना ऑनलाइन वेबसाइट पर अपलोड करने की अंतिम तारीख - 16 अगस्त

’ 10 अगस्त के बाद प्रति छात्र 100 रुपये विलंब शुल्क के साथ कोषागार में जमा कराने की तारीख - 16 अगस्त

’ विलंब शुल्क के साथ जमा परीक्षा शुल्क की सूचना ऑनलाइन अपलोड कराने की अंतिम तारीख - 20 अगस्त

’छात्र-छात्रओं का शैक्षिक विवरण वेबसाइट पर अपलोड करने की अंतिम तारीख - 20 अगस्त (मध्यरात्रि 12 बजे)

’ वेबसाइट पर अपलोड छात्र-छात्रओं के विवरण की चेकलिस्ट - 21 से 31 अगस्त तक

’ जांच के बाद विवरण में संशोधन - एक से 10 सितंबर तक (मध्यरात्रि 12 बजे)

UP Board : यूपी बोर्ड का पाठ्यक्रम घटेगा, साथ ही अगली कक्षा में प्रवेश को ऑनलाइन आवेदन कार्यक्रम Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Primary ka Master