• Breaking News

    UPTET 69000 भर्ती में mrc एक बहुत मजबूत मुद्दा है लेकिन! एक अभ्यर्थी की✍️ कलम से

    69000 भर्ती में mrc एक बहुत मजबूत मुद्दा है ,अब तक कि जितनी भी परीक्षाओं में mrc का मुद्दा कोर्ट में गया है वहां एक बात कॉमन रही है वो है पदों के सापेक्ष पहले बच्चो का आरक्षण वार चयन कर लिया गया उसके बाद mrc लागू किया है जैसा कि 69000 में होना
    Uptet help , primary ka master, primary ka master current news, primarykamaster, basic siksha news, basic shiksha news, upbasiceduparishad, uptet
    चाहिए था यानी कुल 1लाख 46हजार छात्रों से फॉर्म भरवा कर पहले 69000 छात्रों को आरक्षणवार उसमें चुनना था उसके बाद उनको mrc के अनुसार जिला आवंटित कर देना था यानी mrc का काम सिर्फ 69000 बच्चो को चयनित मानकर लागू करना था पर सरकार ने यहां 146000 बच्चो को चयनित मानकर mrc लागू की जिससे आरक्षण गड़बड़ा गया ,सुप्रीम कोर्ट के 2010 के upsc से संबंधित mrc आर्डर में कैडर अलॉट करने में इसका प्रयोग किया न कि फाइनल मेरिट लिस्ट बनाने में ,mrc का फाइनल मेरिट लिस्ट बनाने में कोई प्रयोग नही होता बल्कि ये सिर्फ वरीयता के लिए लागू किया जाता है ।कुछ दिनों से देख रहा हु जितने भी mrc लीडर है वो खुद एकजुट नही दिख रहे है तो केस कैसे लड़ेंगे ,ये एक ऐसा केस है जिसमे सरकार 100%गलत है और उसे अच्छी रणनीति के साथ हराया जा सकता है पर उसके लिए एकजुट होकर लड़ना होगा,और कोई ये न सोचें कि हम सही है इस लिए हम किसी भी वकील को खड़ा कर दे हम जीत जाएंगे तो उन्हें बता दु भले ही आप न हारे पर सरकार डेट डेट का ऐसा खेल खेलेगी की जीवन गुजार जाएगा न्यायालय जाते जाते और सब ठंडे पड़ जाएंगे 2011 कि 72825 भर्ती में आज तक डेट का खेल चल रहा है इस लिए बड़े वकील खड़े करिये जिससे केस जल्दी खत्म हो और न्यायालय से जल्द न्याय मिले, ये केस बहुत गंभीर है इसमे जीत 100% तय है इसमे यही ऑर्डर होगा कि पहले 69000 का चयन करिये फिर उसमें mrc लागू कीजिये ,up tgt pgt में फाइनल रिजल्ट जारी होने के बाद वहां mrc के द्वारा छात्रों को उनकी वरीयता दी जाने के लिए फॉर्म भरवाए जा रहे है ऐसा ही 69000 में होगा पर संगठित होकर लड़ने से ।अगर दमदार ब्रीफिंग और मजबूत याचिका पर दमदार वकील खड़ा कर सकते है तो जीत मिलनी तय है पर चंद्रा सर की याचिका में ज्यादा मजबूती नही है और ये भी बता दु की अभी सरकार इतनी जल्दी काउंटर नही लगाएगी जब कोर्ट सख्त रुख अपनाएगी तभी ये होगा उसके लिए बड़े चेहरे कोर्ट में लाने होंगे ,और एकजुट रहना होगा और स्वार्थी बनकर सिर्फ mrc पर लड़ना होगा वरना अगर आपको अपने चयनित भाइयों से भी प्रेम हो गया कि उनको पहले जॉइनिंग मिल जाये तब हम केस लड़ेंगे तो भाई वही बात होगी कि आपका प्रेम केस को ले डूबेगा।