• Breaking News

    कोविड-19 में ऑनलाइन पढ़ाई बनी आंखों के लिए मुसीबत, साथ ही नेटवर्क बन रहा पढ़ाई में बाधा

    प्रयागराज : कोरोना संक्रमण ने तमाम तरह की मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। लोगों का रहन सहन, दिनचर्या तक बदल चुकी है। बच्चों के पठन पाठन का तरीका भी बदल चुका है। सभी चीजें ऑनलाइन हो रही हैं लेकिन इसके दुष्प्रभाव भी अब दिखने लगे हैं। बच्चे जैसे तैसे पढ़ने की कोशिश तो कर रहे हैं लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई के भी अपने साइड इफेक्ट हो रहे हैं। कभी विषयवस्तु नहीं समझ में आ रही है तो कभी संसाधन उपलब्ध नहीं हैं। देखा जा रहा है कि जो बच्चे मोबाइल से ऑनलाइन क्लास कर रहे हैं उनके आंख पर दुष्प्रभाव पड़ रहा है। इससे उनमें सिर दर्द व चिड़चिड़ापन भी हो रहा है, जो अभिभावकों के लिए चिंता का सबब बना हुआ है।
    मेरी बेटी कक्षा एक में है। उसकी ऑनलाइन क्लास चल रही है। वह मोबाइल पर ही करीब तीन घंटे क्लास करती है। उसकी आंखें लाल हो जाती हैं। सिर भी दर्द करता है।
    - सरिता दुबे, अभिभावक, तेलियरगंज

    बेटा कक्षा तीन में पढ़ता है। जितनी देर क्लास चलती है उतनी देर हमे भी बैठे रहना पड़ रहा है। स्क्रीन पर देखते देखते उसकी आंखें भारी हो जा रही हैं। कई बार आंख से पानी निकलने लगता है।
    - अर्चना गुप्ता, अभिभावक, कटरा

    बेटे की कोचिंग की सभी कक्षाएं ऑनलाइन चल रही हैं। लैपटॉप पर अधिक समय देना पड़ रहा है। इससे उसके सिर में दर्द बना रहता है। स्वभाव भी चिड़चिड़ा होता जा रहा है।
    -स्वेता श्रीवास्तव, मम्फोर्डगंज

    मेरी बेटी कक्षा दो में है। ऑनलाइन क्लास के कारण वह मोबाइल पर अधिक समय देती थी। मोबाइल की स्क्रीन से आंखों में दिक्कत होने लगी किताबों के सहारे हम खुद पढ़ा रहे हैं।
    -जया श्रीवास्तव, उंचवागढ़ी

    डॉक्टर की सलाह
    बेली अस्पताल के नेत्र सर्जन डॉ. एम के अखोरी का कहना है कि लगातार कंप्यूटर व मोबाइल स्क्रीन पर न देखें। थोड़ी थोड़ी देर पर स्क्रीन से नजर हटाते रहें। एंटी रिफ्लेक्टिव ग्लास का प्रयोग करें। कंप्यूटर व मोबाइल की स्क्रीन पर फिल्टर लगाएं। स्क्रीन अधिक डार्क या अधिक चमकदार न हो। कठिनाई होने पर किसी लुब्रीकेटिंग आई ड्राप का प्रयोग करें। सुबह उठकर कुछ योग भी करें जिसमें चेहरे और आंखों की मांस पेशियों की कसरत हो। बच्चे हरी सब्जियों का भी प्रयोग बढ़ा दें।

    नेटवर्क बन रहा पढ़ाई में बाधा
    ऑनलाइन कक्षाएं चल तो रही हैं लेकिन अभिभावक और बच्चों के लिए यह बड़ी मुसीबत बन रहा है। जैसे तैसे लोग मोबाइल की व्यवस्था कर करे हैं तो नेटवर्क की समस्या से जूझना पड़ रहा है। सपा के महानगर मीडिया प्रभारी का कहना है कि नेटवर्क इतना स्लो होता है कि कोई भी डाक्यूमेंट डाउनलोड नहीं होता है। जैसे ही नेटवर्क खराब होता है कनेक्शन भी टूट जाता है।