• Breaking News

    मध्य प्रदेश (MP) के 12 हजार से अधिक सरकारी स्कूल बंद होंगे, यह है कारण

    मध्य प्रदेश के 12 हजार से अधिक सरकारी स्कूल बंद होंगे, यह है कारण
    प्रदेश में सरकारी स्कूलों को बंद करने का सिलसिला शुरू होने वाला है। पहली खेप में 12 हजार 876 स्कूलों को बंद करने की तैयारी है। इसके लिए प्रदेश भर में समीक्षा शुरू होगी। राज्य शिक्षा केंद्र ने एक आदेश जारी कर जिले के अधिकारियों से कहा कि उन स्कूलों की समीक्षा की जाए जहां छात्रों की संख्या 0 से 20 है। ऐसे स्कूलों को समीप के स्कूलों में मर्ज कर शिक्षकों की सेवाएं कार्यालय या फिर अन्य स्कूलों में ली जाएं।
    राज्य शिक्षा केंद्र की सूची में भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर संभाग के जिलों में सबसे ज्यादा स्कूल बंद होंगे।

    शून्य छात्र संख्या वाले जिले
    देवास-18, शिवपुरी-16, उज्जैन-19, इंदौर-10, धार-21, खरगोन-27, सागर-48, दमोह-27, पन्ना-27 सहित अन्य जिलों में भी शून्य छात्र संख्या वाले स्कूल बंद होंगे।


    यह है प्रावधान
    स्कूल शिक्षा विभाग के नियमानुसार मिडिल स्कूल संचालित करने के लिए 20 से ज्यादा छात्र होना आवश्यक है तो वहीं प्रायमरी स्कूल में उस स्थिति में ही संचालित हो सकते हैं जब 40 छात्र होंगे।

    इनका कहना है
    जिन स्कूलों में छात्र ही नहीं वहां शिक्षकों की जरूरत नहीं है ऐसे स्कूलों को समीप के किसी स्कूल में मर्ज किया जाएगा। शिक्षकों भी दूसरों स्कूलों में मर्ज किया जाएगा। फिलहाल इसकी समीक्षा की जा रही है। जिलों को भी निर्देश जारी किए गए हैं।
    - लोकेश जाटव, आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र


    विभाग के निर्देश मिलने के बाद गुरुवार को समीक्षा की गई जिसकी रिपोर्ट तैयार कर राज्य शिक्षा केंद्र को भेजी जा रही है।
    - डीके श्रीवास्तव, एडपीसी जिला शिक्षा केंद्र

    विशेष नोट:👇 

    जब मध्यप्रदेश में  0 से 20  से कम छात्र संख्या वाले विद्यालयों को बंद करना शुरू कर दिया गया है 
    उत्तर प्रदेश में कब क्या शुरू हो जाए, इसलिए प्रवेश करके
    अपने विद्यालयों में छात्र संख्या को दुरुस्त कर लें

    प्रदेश में शिक्षकों शिक्षामित्रों अनुदेशकों के सभी व्हाट्सएप ग्रुप पर संबंधित सूचना को फॉरवर्ड कर दिया जाए, दूरदर्शी बनिए अपनी बेसिक शिक्षा अपने विद्यालय को
    को बचाइए.

    बच्चे हैं
    तो विद्यालय हैं
    विद्यालय हैं
    तो आप हैं
    🙏🙏🙏🤝🤝