• Breaking News

    Teachers Bharti : 1303 पदों पर डिग्री शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू

    प्रदेश के अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए राहत वाली खबर है। तकरीबन 15 विषयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 1303 पदों के लिए भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो गई है।
    उच्च शिक्षा निदेशालय ने मंगलवार को पहले चरण के तहत पदों का अधियाचन उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग (यूपीएचईएससी) को भेज दिया। अब आयोग इन पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी कर आवेदन लेगा और इसके बाद परीक्षा कराई जाएगी।
    अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर पिछले चार साल से कोई नई भर्ती नहीं हुई है। दो साल पहले निदेशालय ने 534 पदों का अधियाचन आयोग को भेजा था, लेकिन आयोग की ओर से विज्ञापन जारी किए जाने से पहले ही निदेशालय ने अधियाचन वापस ले लिया था।
    निदेशालय की ओर से कहा गया था कि आरक्षण की नए सिरे से समीक्षा करने के बाद पदों का अधियाचन आयोग को दोबारा भेजा जाएगा। हालांकि इसके बाद कोई अधियाचन नहीं भेजा गया। इस बीच शासन की ओर से निर्देश जारी किए गए कि महाविद्यालयों में जिला स्तरीय कमेटियों से रिक्त पदों का सत्यापन करा लिया जाए। 

    सत्यापन के दौरान 3900 रिक्त पदों की सूची उच्च शिक्षा निदेशालय को भेजी गई। भर्ती के लिए शासन से मंजूरी मिलने के बाद निदेशालय ने कॉलेजों में शिक्षक-छात्र अनुपात के हिसाब से पदों का सत्यापन शुरू कराया, जिनमें से 1303 पदों का सत्यापन पूरा हो चुका है।

    मंगलवार को इन 1303 पदों का अधियाचन यूपीएचईएससी को भेज दिया गया। बाकी पदों का सत्यापन चल रहा है। हालांकि आयोग ने अभी यह तय नहीं किया है कि 1303 पदों पर भर्ती का विज्ञापन जारी करेगा या बाकी पदों का अधियाचन मिलने का इंतजार करेगा।


    ‘अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती के लिए 1303 पदों का अधियाचन यूपीएचईएससी को भेज दिया गया है। बाकी पदों को क्रॉस चेक किए जाने की प्रक्रिया निदेशालय में चल रही है। प्रक्रिया पूरी होने के बाद अन्य पदों का अधियाचन भी आयोग को भेज दिया जाएगा।’ डॉ. वंदना शर्मा, निदेशक, उच्च शिक्षा

    ‘शासन और उच्च शिक्षा निदेशालय में बात की जाएगी कि बाकी पदों का अधियाचन कब तक मिलेगा। अगर अधियाचन दो से तीन हफ्तों में मिलने के आसार हैं तो थोड़ा इंतजार किया जाएगा। अन्यथा 1303 पदों पर भर्ती के लिए आयोग के स्तर से काम शुरू कर दिया जाएगा। आयोग की मंशा है कि भर्ती प्रक्रिया समय से पूरी हो।’ प्रो. ईश्वर शरण विश्वकर्मा, अध्यक्ष, यूपीएचईएससी