• Breaking News

    प्रदेश में इस साल नहीं खुल पाएंगे परिषदीय स्कूल, कोरोना संक्रमण के चलते दिसंबर तक स्कूल न खोलने पर बनी सैद्धांतिक सहमति

     

    इन बातों को ध्यान में रखते हुए बनी सहमति
    ✅ बच्चों की सुरक्षा  पहली प्राथमिकता
    ✅ स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों में संक्रमण जल्दी फैलने की आशंका जताई 
    ✅ बच्चों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना आसान नहीं
    ✅ बच्चों को मास्क लगवाना और बार बार हाथ धुलवाना मुश्किल
    ✅ माध्यमिक व डिग्री कॉलेजों से फीडबैक के बाद दिसंबर में होगा मंथन
    ✅ 1 से 8 तक के स्कूलों को खोलने के लिए केंद्र सरकार की गाइडलाइन का होगा इंतजार

    लखनऊ। प्रदेश में परिषदीय स्कूलों को इस साल नहीं खोला जाएगा। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर दिसंबर तक स्कूल न खोलने पर सैद्धांतिक सहमति बनी है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों में संक्रमण जल्दी फैलने की आशंका जताई है। ऐसे में बच्चों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना,

    मास्क लगवाना और बार- बार हाथ धुलवाना मुश्किल काम है। फिर भी माध्यमिक विद्यालयों और डिग्री कॉलेजों से फीडबैक लेने के बाद दिसंबर में परिषदीय स्कूलों को खोलने पर मंथन किया जाएगा। बच्चों की सुरक्षा उनकी पहली प्राथमिकता है। सूत्रों के मुताबिक कक्षा 1 से 8 तक के स्कूलों को खोलने के लिए केंद्र सरकार की गाइडलाइन का इंतजार किया जाएगा। उसके बाद स्कूलों को खोलने की स्थिति का आकलन किया जाएगा। फिर दिसंबर में मुख्यमंत्री के समक्ष रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी। मुख्यमंत्री की स्वीकृति मिलने के बाद ही स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया जाएगा। हालांकि सूत्रों का कहना है कि इस साल परिषदीय स्कूलों का खुलना मुश्किल है।