• Breaking News

    कोरोना में बगैर शासन के आदेश के ही शिक्षक ने शुरू किया स्कूल में पढ़ाई, मामला हाईलाइट होते मचा हड़कंप

    बरसठी | तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच जहाँ सरकार अभी डिग्री स्तर के विद्यालयों को खोलने के लिए साहस नही जुटा पा रही हैं। वही बरसठी विकास खण्ड के रसुलहा ग्राम पंचायत के डाढ़ा प्राथमिक विद्यालय पर तैनात शिक्षक व शिक्षीकाओ ने बिना किसी सरकारी आदेश के छोटे-छोटे बच्चों को विद्यालय में बुला कर सोशल
    डिस्टेसिंग का पालन न करते हुए कक्षाए संचालित कर रहे थे। जब इसकी भनक मीडिया कर्मी को लगी तो क्षेत्र के एक मीडियाकर्मी विद्यालय में पहुच कर प्रधानाध्यापक से जानने का प्रयास किया कि क्या शासन या जिलाधिकारी का कोई लिखित आदेश विद्यालय खोलने का हुआ है। तो अध्यापक जवाब नही दे पाए और मीडियाकर्मी ने जब संचालित हो रही कक्षा की साक्ष्य के लिए वीडियो लेने की कोशिश किए तो अध्यापक अपनी करतूत खुलते देख तिलमिलाए अध्यापक ने मीडियाकर्मी से उलझने का प्रयास किया। मीडियाकर्मी मामले की सूचना प्रधान प्रतिनिधि और विभागीय अधिकारियों को दिया तो पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया। अध्यापक की करतूत सुन कर उक्त गांव के ग्रामीण और पचीसों की संख्या में अन्य मीडियाकर्मी पहुच गए जैसे-जैसे मामले की सूचना क्षेत्र में फैलने लगी अन्य विद्यालयों के सम्मानित अध्यापक तथा खंड शिक्षा अधिकारी सुरेंद्र सिंह पटेल भी पहुच गए। अध्यापक द्वारा संचालित की जा रही कक्षा की वीडियो देख बीईओ और अन्य अध्यापक भी सकते में आ गए कि यहां तैनात प्रधानाध्यापक और अध्यापक इतनी बढ़ी गलती कैसे कर सकते है। जब कि डीएम दिनेश सिंह दो दिन पहले प्रयोग के तौर पर अध्यापकों को यह निर्देश दिए कि आप गांव के मजरों में जा करके नामांकित बच्चो को  दो गज की दूरी बनाकर होमवर्क दे और विद्यालय पर तैनात अध्यापिकाएं विद्यालय के नजदीकी मजरे से पांच-छः बच्चो को बुलाकर सोशल डिस्टसिंग का पालन करते हुए होमवर्क दे जिसमे धीरे धीरे शिक्षा का माहौल तैयार हो सके लेकिन प्रथमिक विद्यालय डाढ़ा में तैनात अध्यापक डीएम के आदेश का ठीक उल्टा  कार्य कर रहे थे मौके पर जुटे ग्रामीण भी अध्यापक के इस करतूत पर आक्रोशित हो गए मीडियाकर्मियों एवं आक्रोशित ग्रामीणों ने खंड शिक्षा अधिकारी से मांग किया कि  छोटे छोटे बच्चों के साथ कोरोना काल मे ऐसी लापरवाही करने पर अध्यापक के ऊपर क्या कार्यवाही खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा की जा रही हैं। इस पर खण्ड शिक्षा अधिकारी सुरेंद्र सिंह पटेल ने कहा कि अध्यापक द्वारा बहुत बड़ी लापरवाही की गई है जो कि शासन के मंशा के विपरीत है जिस पर कड़ी कार्यवाही की संसृति बेसिक शिक्षा अधिकारी को की जाएगी तब जाकर मीडियाकर्मी और ग्रामीण शांत हुए।