• Breaking News

    Online Classes : माध्यमिक स्कूलों की पढ़ाई भी अब हो गई ऑनलाइन, वाट्सएप ग्रुप व गूगल मीट के जरिए चल रही है पढ़ाई, स्वयं प्रभा चैनल व दूरदर्शन पर भी मंगलवार को शुरू हुई ऑनलाइन कक्षाएं

    प्रयागराज : कोरोना के संकट के चलते सभी स्कूलों में पढ़ाई ऑनलाइन चल रही है। विद्यार्थी घरों में रहकर ही पठन पाठन कर रहे हैं, हालांकि शिक्षकों को विद्यालय जाना पड़ रहा है। वे वहीं से वाट्सएप ग्रुप व गूगल मीट के जरिए कक्षाएं ले रहे हैं। माध्यमिक स्कूलों के विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई मंगलवार को दूरदर्शन व स्वयं प्रभा चैनल से भी शुरू हो गई।
    स्वयं प्रभा चैनल पर कक्षा 9 व 11 के विद्यार्थियों के लिए पूर्वाह्न् 11 बजे से एक बजे तक प्रसारण हुआ। कक्षा 10 और 12वीं के विद्यार्थियों के लिए दूरदर्शन पर अपराह्न् एक बजे से दो बजे, 2:30 से तीन बजे, 3:30 बजे से पांच बजे तक व 5:30 से 6:30 बजे तक प्रसारण हुआ। प्रतिदिन इसी समय पर शैक्षणिक कार्यक्रम प्रसारित होंगे। पहले दिन गणित और अंग्रेजी की कक्षाएं चलीं। बुधवार को अंग्रेजी, हंिदूी और विज्ञान की कक्षाएं चलेंगी। शिक्षा निदेशक माध्यमिक की तरफ से जारी पत्र में कहा गया है कि टीवी पर जो भी कार्यक्रम प्रसारित हो रहे हैं, उन्हें शिक्षक भी अनिवार्य रूप से देखें।

    ऐसा इसलिए कि विद्यार्थियों के प्रश्नों का जवाब दे सकें। संबंधित प्रश्न स्कूलों की तरफ से चलने वाले वाट्सएप ग्रुप में छात्र-छात्रएं पूछ सकते हैं।

    जीआइसी के प्रधानाचार्य देवेंद्र सिंह ने बताया कि विद्यार्थियों ने अपने घरों से दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले शैक्षणिक कार्यक्रम देखे। हालांकि कॉलेज की तरफ से पहले से वाट्सएप ग्रुप पर समय सारिणी बनाकर आठ बजे से दो बजे तक सभी कक्षाएं चल रही हैं। उनमें शिक्षक नोट्स बनाकर दे रहे हैं। विद्यार्थियों के प्रश्नों के जवाब भी दिए जा रहे हैं। इसी तरह कर्नलगंज इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य अजय कुमार ने बताया कि छोटी कक्षाओं में वाट्सएप ग्रुप के जरिए पढ़ाई हो रही है जब कि 11वीं और 12वीं के विद्यार्थियों को गूगल मीट के जरिए पढ़ाया जा रहा है।

    वीडियो बनाकर ग्रुप में पोस्ट कर रहे शिक्षक : ऑनलाइन पढ़ाई के क्रम में जीजीआइसी में शिक्षक कक्षा में पहले अपना वीडियो बना रहे हैं। उसके बाद उसे वाट्सएप ग्रुप में पोस्ट करते हैं।

    विद्यार्थी उसे देखकर पाठ्य सामग्री को समझने की कोशिश कर रहे हैं। प्रधानाचार्य इंदू सिंह ने बताया कि यूट्यूब चैलन भी कॉलेज का है। उसपर भी छात्रएं अध्ययन सामग्री हासिल कर सकती हैं।

    जीजीआइसी में पढ़ाई के लिए वीडियो बनातीं शिक्षिका ’ सौ.: स्वयं

    स्कूलों में नहीं है टेलीविजन

    शिक्षा निदेशक की तरफ से जारी पत्र में कहा गया है कि सभी अध्यापक दूरदर्शन से प्रसारित होने वाले शैक्षणिक कार्यक्रमों को जरूर देखें जिससे बच्चों के प्रश्नों का जवाब दे सकें। अब समस्या यह है कि किसी भी विद्यालय में टेलीविजन नहीं है। कर्नलगंज इंटर कॉलेज और जीआइसी के प्रधानाध्यापक ने कहा कि टीवी न होने के कारण विद्यालय में शिक्षक कार्यक्रम नहीं देख सकेंगे। इसी तरह की समस्या अन्य विद्यालयों के शिक्षकों के साथ भी है।

    सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्यो को कहा गया है कि वे विद्यालय के किसी भी मद से टीवी खरीद लें। बाद में उस धन का समायोजन कर लिया जाएगा। जिससे कि अध्यापक भी विद्यालय में रहते हुए शैक्षणिक कार्यक्रमों का प्रसारण देख सकें और छात्रों के प्रश्नों का भी जवाब दे पाएं।

    - आरएन विश्वकर्मा, डीआइओएस